Wednesday, 2 September 2015

मेरी ख्वाबिन्दा उमिदोको


मेरी ख्वाबिन्दा उम्मीदों को जगाया क्यों था …
दिल जलना था तो फिर तुमने दिल लगाया क्यों था ..
अगर गिरना था इस तरहा नजरोसे हमें …
तो फिर मेरे इस्सक को कलेजे से लगाया क्यों था..

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.